Search This Blog

Thursday, 17 March 2016

दिल न तोड़ना



तुम मेरे दिल में रहते हो

  अगर कभी

  यहां से जाना चाहों तो

  ऐसे निकलना

जैसे बच्चा रेत के मकान से पैर निकालता है।

 

मनीषा शर्मा~

20 comments:

  1. Replies
    1. शुक्रिया योगी जी :)

      Delete
  2. Beautiful thought and analogy.

    ReplyDelete