Search This Blog

Wednesday, 26 August 2015

दुनिया



ये दुनिया एक किताब हैं

पहाड़, नदियां और जंगल

है पन्ने

आओ इन पन्नों से गुजरें

इस धरती को बांचें!


मनीषा शर्मा~

6 comments: