Search This Blog

Saturday, 31 October 2015

ज़िन्दगी एक किताब



एक किताब

कुछ अधजले पन्नों की

कुछ गायब पन्नों की

कुछ रंगहीन तस्वीरों की


एक किताब

नई जिल्द की चाह में

फिर से लिखे जाने की चाह में

नए नज़रिए से पढ़े जाने की चाह में

नयी बुक सेल्फ की चाह में

एक नये शब्दकोश की चाह में


एक किताब

जिसमें कुछ आदर्श

जिसमें कुछ जज्बात

बहुत से रहस्य

बहुत सा रोमांच


एक किताब

आज मैंने पढ़ी

एक जिदंगी

आज मैंने पढ़ी।।


मनीषा शर्मा~

6 comments:

  1. that's beautiful....the picture contrasts the play on 'newness' in your poem.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank you Sunaina... In this poem I've tried to tell a storie of two people of different age who face it all even in today's date.

      Delete
  2. Waiting for a new life...it's pathetic that it is still rampant in India...Beautifully expressed anyway...

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank Amit.. :) And it is truly pathetic..

      Delete